Pages

Search This Website

Saturday, September 3, 2016

*जी चुका उनके लिए जो मेरे लिए सब् कुछ थे अब जीना है उनके लिए जिनके लिए मैं सब् कुछ हूं।।*

हर हसरत अगर पूरी हो जाये तो ,ये जिंदगी ही क्या...

वक्त काटने का एक जरिया तो ये नाकाम हसरतें ही हैं...

⬇⬇
साँपों के मुक़द्दर में अब वो ज़हर कहाँ ?
जो इन्सान आजकल बातों में उगल देते हैं !

⬇⬇
खुद को पढता हूँ, फिर छोड़ देता हूँ,

रोज़ ज़िन्दगी का एक पन्ना मोड़ देता हूँ…

⬇⬇
तुम ये मत समझना के मुझे कोई और नहीं चाहता,

मौत तो तुमसे पहेले ही हमसफ़र बन बैठी है..

⬇⬇
क्यूँ  एक  दिल  को  दूसरे  दिल  की खबर न हो ।

वो दर्द-ए-इश्क  ही क्या जो इधर हो, उधर न हो ।।

⬇⬇
तुझे देख कर मेरे शहर के पत्थर भी पिघल जाते है 
यू नज़रो से कत्ल करने के तरीके बस तुम्है आते है

⬇⬇
तेरी  मुस्कराहट तेरे रूप की पहचान है,
तेरे दिल की धड़कन में दिल की जान है,

ना सुनूं जिस दिन तेरी बातें,
लगता है उस रोज़ ये जिस्म बेजान है।

⬇⬇
जी चुका उनके लिए जो मेरे लिए सब् कुछ थे
अब जीना है उनके लिए जिनके लिए मैं सब् कुछ हूं।।

⬇⬇
ऐ खुदा उसे मेरा कर दे या फिर मोहब्बत का जख्म भर दे
मुझे समझ नही आती तेरी खुदाई बस मेरा इश्क अमर कर दे

⬇⬇

अजनबी शहर के अजनबी रास्ते मेरी तन्हाई पर मुस्कुराते रहे;
मैं बहुत देर तक यूँ ही चलता रहा, तुम बहुत देर तक याद आते रहे।
कल कुछ ऐसा हुआ मैं बहुत थक गया, इसलिये सुन के भी अनसुनी कर गया;
कितनी यादों के भटके हुए कारवाँ मेरे जेहन के दर खटखटाते रहे!
जहर मिलता रहा जहर पीते रहे, रोज मरते रहे रोज जीते रहे;
जिंदगी भी हमें आजमाती रही और हम भी उसे आजमाते रहे

No comments:

Post a Comment

ANUKRAMANIKA