Pages

Search This Website

Monday, September 5, 2016

*मुनाफे की बात नहीं होती हमारे कारोबार में,* *हम आईना बेचा करते हैँ अंधों के बाजार में.*

तेरी बेवफाई ने मेरा

ये हाल कर दिया है;
मैं नहीं रोता

लोग मुझे देख कर रोते हैं!

PAGAL SHAYAR
⬇⬇

कुछ लोग आते है जिंदगी में,
सिर्फ हमें रुलाने के लिये !!

MR...KK

⬇⬇

शायद उसने दरिया में ड़ाल दी होगी,
मेरी मोहब्बत भी तो  एक नेकी ही थी !!

⬇⬇

उस पे मुहब्बत आती हे ऎसे...
जूठ पे यकींन आता हे जेसे..

MR...KK

⬇⬇

कोई मेरी आवाज को खामोश कर गया,,,
____🌹_🌹_🌹___
तब से मे बोलता नही
सिर्फ लिखता हूँ__

SHAYAR...KK

⬇⬇

_*कौन कहता है पैसा,*_

_*सबकुछ खरीद सकता है...!!!*_

_*दम है तो टूटे हुएँ,*_

_*विश्वास को पाकर दिखाएँ...!!!  MR..KK✍*

⬇⬇

मेरी शायरियों से मशहूर है तू इस क़दर मेरे शहर में......!!
.
दीदार किसी ने किया नहीं मगर,,,,, तारीफें हर ज़ुबान पर हैं.......!!!

MR...SHAYAR
⬇⬇

काश कुछ ऐसे सिलसिले हो जाए,
हम मिट जाए या फांसले मिट जाए ...

MR...KK

⬇⬇
काश जिन्दगी में मौत यूँ आए,
बाहों में तेरे सिर हो और मेरी रुह चली जाए ...

MR...KK

⬇⬇
काश मेरा दिल भी पत्थर का होता,
कितनी भी चोट लगे असर ना होता ...

MR...KK
⬇⬇
काश ये पल थम जाए,
और आपके हम हो जाए ...

MR...KK
⬇⬇
शतरंज में वज़ीर ओर ज़िंदगी में ज़मीर
     
अगर मर जाये तो, समझना खेल ख़त्म

No comments:

Post a Comment