Pages

Search This Website

Monday, April 4, 2016

याद वही आते हैं जो उड़ जाते हैं।

आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की,

लम्हें तो अपने आप मिल जाते हैं,

कौन पूछता है पिंजरे में बंद परिंदों को,

याद वही आते हैं जो उड़ जाते हैं।

No comments:

Post a Comment