Pages

Search This Website

Monday, April 4, 2016

इतना चाहा कि उसे भुला न सके।

खुशी मिली तो मुस्कुरा न सके,

गम मिला तो आंसू बहा न सके,

जिन्दगी का यही राज है,

जिसे चाहा उसे पा न सके,

औऱ इतना चाहा कि उसे भुला न सके।

No comments:

Post a Comment