Pages

Search This Website

Wednesday, February 17, 2016

अपने सुकून की खातिर, तुझे रुला नहीं सकता|

मत सोच कि मैं तुझे भुला नहीं सकता, तेरी यादों के पन्ने मैं जला नहीं सकता, कश्मकश ये है कि खुद को मारना होगा, और अपने सुकून की खातिर, तुझे रुला नहीं सकता|

No comments:

Post a Comment