Pages

Search This Website

Tuesday, November 3, 2015

खुद का दिल जला बैठे हैं…"

"यादो में तेरी तन्हा बैठे हैं,
तेरे बिना लबों की हसी गावा बैठे हैं
तेरी दुनिया में अंधेरा ना हो,
इसलिए खुद का दिल जला बैठे हैं…"

No comments:

Post a Comment