Pages

Search This Website

Monday, November 2, 2015

इस नसीब की दास्ताँ किसे बताएं!

दिल में है जो दर्द वो दर्द किसे बताएं!
हंसते हुए ये ज़ख्म किसे दिखाएँ!
कहती है ये दुनिया हमे खुश नसीब!
मगर इस नसीब की दास्ताँ किसे बताएं!

No comments:

Post a Comment