Pages

Search This Website

Monday, November 23, 2015

शायद उनको भी हमारा इंतज़ार होगा।

कब उनके लबों से इज़हार होगा;
दिल के किसी कोने में हमारे लिए भी प्यार होगा;
गुज़र रही हैं अब तो यह रातें बस इसी सोच में;
कि शायद उनको भी हमारा इंतज़ार होगा।

No comments:

Post a Comment