Pages

Search This Website

Friday, November 20, 2015

रहे सलामत ज़िंदगी उनकी,

रहे सलामत ज़िंदगी उनकी,
जो मेरी ख़ुशी की फरियाद करते हैं;
ऐ खुदा उनकी ज़िंदगी खुशियों से भर दे,
जो मुझे याद करने के लिए अपना एक पल बर्बाद करते हैं।

No comments:

Post a Comment