Pages

Search This Website

Showing posts with label जुदाइ. Show all posts
Showing posts with label जुदाइ. Show all posts

Wednesday, February 17, 2016

ज़ख्मो को मेरे जब तेरे शहर की हवा लगती है।

बिछड़ के तुम से ज़िन्दगी सज़ा लगती है; यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है; तड़प उठता हूँ दर्द के मारे मैं; ज़ख्मो को मेरे जब तेरे शहर की हवा लगती है।

Read More »

Sunday, January 10, 2016

तुझे सिर्फ़, महोब्बत से शिकवा है.!!!

जुदा तो एक दिन, सांसे भी हो जाती हैं पगली.!!!

और तुझे सिर्फ़, महोब्बत से शिकवा है.!!!

Read More »